Menu

धर्म / आस्था
महानवमी पर मां सिद्धिदात्री की पूजा, मंदिरों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

nobanner

नवरात्र के नौवें दिन माता दुर्गा के नौवें स्वरूप मां सिद्धदात्री की पूजा- अर्चना की जाती है। शारदीय नवरात्र के दौरान सोमवार को महानवमी पर मां सिद्धिदात्री की पूजा की जा रही है। देश भर के मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है। मंदिरों में सुबह से ही भक्तों का तांता लगने लगा। दिल्‍ली, लखनऊ, पटना समेत विभिन्‍न शहरों के मंदिर प्रांगणों में माता के भक्तों के जयकारों से मंदिर परिसर गुंजायमान रहा।

माता को सिद्धियों की स्वामिनी भी कहा जाता है और इसी कारण इनका नाम सिद्धिदात्री पड़ा। नवरात्र की नवमी पर शास्त्रों के अनुसार तथा संपूर्ण निष्ठा के साथ साधना करने वाले साधक को सभी सिद्धियों की प्राप्ति हो जाती है। सृष्टि में कुछ भी उसके लिए अगम्य नहीं रह जाता है। मां सिद्धदात्री को सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण माना गया है। इन्हें सम्पूर्णता की देवी भी कहा गया है। वैसे तो मां सिद्धदात्री की पूजा कभी भी की जा सकती है लेकिन नवरात्रि के नौवें दिन को श्रेष्ठ माना गया है। इस दिन विधि-विधान और पूरी निष्ठा से इनकी पूजा करने वाले भक्तों को सभी सिद्धियां प्राप्त होती हैं।

पुराणों के अनुसार देवी सिद्धिदात्री के आठ सिद्धियां हैं। देवी पुराण के मुताबिक सिद्धिदात्री की उपासना करने का बाद ही शिव जी ने सिद्धियों की प्राप्ति की थी। माना जाता है कि देवी सिद्धिदात्री की आराधना करने से लौकिक और परलौकिक शक्तियों की प्राप्ति होती हैं। मां सिद्धदात्री की साधना से लोगों की सभी भौतिक और अध्यात्मिक मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।