Menu

व्यापार
ज्वैलर्स ने ग्राहकों को दी चेतावनीः हीरा खरीदारी का बिल जरुर लें

nobanner

हीरे खरीदने वालों के लिए खुद ज्वैलर्स ने एक सलाह दी है. तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में असली हीरे के नाम पर सिंथेटिक हीरों की बिक्री के गोरखधंधे की शिकायतों से चिंतित ज्वैलर्स ने लोगों को चेतावनी दी है कि हीरे की खरीद का वह बिल जरूर लें ताकि ठगी से बचा जा सके. कुछ दुकानदारों के मुताबिक बाजार में सिंथेटिक हीरों का इस्तेमाल बढ़ा है. यह सस्ते होते हैं और असली हीरे जैसे दिखते हैं.

एनएसी ज्वैलर्स के प्रबंध निदेशक एन. अनंत पद्मनाभन ने कहा , ‘आज सिंथेटिक कीमत की लागत असली हीरे के मुकाबले 25 से 30 फीसदी कम होती है. विकसित देशों में लोग इसे सिंथेटिक हीरे के तौर पर ही बेचते हैं लेकिन हमारे यहां इन्हें असली हीरे की तरह बेचा जा रहा है.’ उन्होंने कहा कि आम आदमी असली या सिंथेटिक हीरे में भेद नहीं कर सकता. हालांकि कुछ दुकानदारों ने इसकी पहचान करने वाली मशीन लगाई है.

ऐसे में व्यापारियों ने ग्राहकों से आग्रह किया है कि वह हीरे के आभूषण का बिल जरूर लें ताकि नक्कालों से बच सकें. हाल के दिनों में नकली हीरे बेचने के कुछ मामले सामने आने के बाद ज्वैलर्स ने ये आग्रह किया है.

नीरव मोदी की कंपनियों से गहने खरीदने वालों के लिए भी इनकम टैक्स का आदेश
इससे पहले 13 जुलाई को नीरव मोदी की कंपनियों से गहने खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर आई थी. आयकर विभाग ने 50 से अधिक ऐसे धनी व्यक्तियों-हाई नेटवर्थ इंडीविजुएल्स (एचएनआई) के इनकम टैक्स रिटर्न का फिर से एसेसमेंट करने का फैसला किया जिन्हें भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी की कंपनियों से महंगे गहने खरीदे थे. इनकम टैक्स विभाग ने इससे पहले कई लोगों को नोटिस भेजकर उनसे आभूषण खरीद का सोर्स पूछा था. इनमें से ज्यादातर ने कहा कि उन्होंने नीरव मोदी की कंपनियों को कोई कैश पेमेंट नहीं किया है. इ