Menu

टेक्नोलॉजी
ज्यादातर भारतीय अपनी स्थानीय भाषा में करते हैं इंटरनेट का इस्तेमाल

nobanner

गूगल ने हाल ही में भारतीय यूजर्स के जरिए इंटरनेट के इस्तेमाल को लेकर एक खुलासा किया है. इस खुलासे में ये सामने आया है कि 95 प्रतिशत भारतीय यूजर्स इंटरनेट पर सर्च और वीडियो अपनी स्थानीय भाषा में देखते हैं. मंगलवार को गूगल फॉर इंडिया इवेंट में इस बात की जानकारी दी गई. गूगल के दक्षिण पूर्व एशिया के वाइस प्रेसिडेंट राजा आनंदन ने कहा कि लोकल तक अपनी पहुंच बनाना ये काफी महत्तवपूर्ण है. गूगल ने कहा कि उनके पास 390 मिलियन एक्टिव यूजर्स हैं जहां 45 प्रतिशत सिर्फ महिलाएं हैं.

गूगल फॉर इंडिया इवेंट का मकसद भारत में लॉन्च होनेवाले प्रोडक्ट्स के ऊपर फोकस था. इसकी शुरूआत पायलट प्रोजेक्ट के जरिए होगी जिसके बाद धीरे धीरे और मार्केट पर फोकस किया जाएगा. लेकिन इस रिसर्च से भारतीयों के सर्च यूसेज के बारे में जरूर पता चल गया जिसने भारतीय मार्केट की सच्चाई बता दी. देश में सबसे ज्यादा स्थानीय भाषाओं में इस्तेमाल होने वाली भाषा गुजराती , तमिल, मराठी और हिंदी है. इवेंट में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर भी काफी जोर दिया गया जिससे कभी अगर प्राकृति आपदा आती है तो उसका पता पहले ही लगाया जा सके. सर्च जाएंट ने कहा कि उसकी टेकनॉल्जी इतनी सक्षम है कि वो इन सब चीजों से लड़ लेगी. इस इवेंट की सबसे बड़ी बात ये रही कि यहां गूगल ने भारत के सभी गांवों को अपने साथ जोड़ा जिसमें वो गांव भी शामिल थे जो रजिस्टर्ड नहीं थे या फिर ऑफलाइ पब्लिशर्स.

बता दें कि गूगल का गूगल असिस्टेंट भी काफी बेहतरीन प्रदर्शन कर रहा है जहां हर साल वॉयस सर्च में 270 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी जा रही है. गूगल इसको भी कई सारी भाषाओं में लाने की योजना बना रहा है. बता दें कि गूगल असिस्टेंट को अब मराठी भाषा में लेकर आ गया है तो वहीं ये तमिल और गुजराती भाषाओं के सपोर्ट को भी जल्द लॉन्च करेगा. इसके अलावा गूगल जल्द ही अब यूजर्स के साथ हिंदी में बात करेंगा. हालांकि इसमें अभी काफी समय है